Wednesday, June 23, 2021
HomeReligionसूर्य ग्रहण के दौरान किन किन बातों का ध्यान रखें ?

सूर्य ग्रहण के दौरान किन किन बातों का ध्यान रखें ?

हमारे ऋषि-मुनियों ने सूर्य ग्रहण लगने के समय भोजन के लिए मना किया है, क्योंकि उनकी मान्यता थी कि ग्रहण के समय में कीटाणु बहुलता से फैल जाते हैं। खाद्य वस्तु, जल आदि में सूक्ष्म जीवाणु एकत्रित होकर उसे दूषित कर देते हैं। इसलिए ऋषियों ने पात्रों के कुश डालने को कहा है, ताकि सब कीटाणु कुश में एकत्रित हो जाएँ और उन्हें ग्रहण के बाद फेंका जा सके। पात्रों में अग्नि डालकर उन्हें पवित्र बनाया जाता है ताकि कीटाणु मर जाएँ। ग्रहण के बाद स्नान करने का विधान इसलिए बनाया गया ताकि स्नान के दौरान शरीर के अंदर ऊष्मा का प्रवाह बढ़े, भीतर-बाहर के कीटाणु नष्ट हो जाएं और धुल कर बह जाएं।

पुराणों की मान्यता के अनुसार राहु चन्द्रमा को तथा केतु सूर्य को ग्रसता है। ये दोनों ही छाया की सन्तान हैं। चन्द्रमा और सूर्य की छाया के साथ-साथ चलते हैं। चन्द्र ग्रहण के समय कफ की प्रधानता बढ़ती है और मन की शक्ति क्षीण होती है, जबकि सूर्य ग्रहण के समय जठराग्नि, नेत्र तथा पित्त की शक्ति कमज़ोर पड़ती है।

साल का पहला सूर्य ग्रहण दोपहर 1 बजकर 42 मिनट से शुरू होकर शाम के 6 बजकर 41 मिनट तक रहेगा। इस बार भारत में ग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं है।

सूर्य ग्रहण आज थोड़ी देर में लगेगा। यह पूर्ण सूर्य ग्रहण है जिसमें चंद्रमा पूरी तरह से पृथ्वी को ढक लेगा। ऐसे में केवल सूर्य की बाहरी परत ही दिखाई देगी। ग्रहण में सूर्य के लगभग 94 फीसदी भाग को चंद्रमा ग्रास लेगा यानी कि ग्रहण लगा देगा। पूर्ण सूर्य ग्रहण होने की वजह से दिन में अंधेरा छा जाएगा। इस बार सूर्य ग्रहण कोरोना (Corona) काल में पड़ रहा है। भारत में ये ग्रहण आंशिक रूप से ही होगा। इसलिए ग्रहण काल मान्य नहीं होगा। साल का पहला सूर्य ग्रहण दोपहर 1 बजकर 42 मिनट से शुरू होकर शाम के 6 बजकर 41 मिनट तक रहेगा। इस बार भारत में ग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं है। आइए जानते हैं सूर्य ग्रहण और राहू केतु का संबंध और पौराणिक कथा।

The Moon will completely cover the Earth. In this case, only the outer layer of the Sun will be visible.
RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments