Monday, January 18, 2021
Home SECTIONS

SECTIONS

विधाता के संकेत

मनुष्य की उत्पत्ति के पश्चात विधाता ने उसे सचेत करते हुए कहा— वत्स, जाओ और संसार के सभी प्राणियों के साथ हिलमिल कर रहना...

मातृभूमि की साधना

वासुदेव बलवंत फड़के पुणे में सरकारी सेवा में थे। गांव से उन्हें पत्र मिला, ‘तुम्हारी मां बहुत बीमार है, अंतिम बार दर्शन के लिए...

नकारात्मकता पर जीत

एक समय की बात है स्वामी दयानंद सरस्वती फर्रुखाबाद में गंगा तट पर रुके हुए थे। तट की उस कुटिया से थोड़ी ही दूरी...

सच्चा साधु

भगवान बुद्ध के पूर्ण नामक शिष्य ने धर्मोपदेश प्राप्त करके ‘सुनापरंत’ प्रांत में धर्म प्रचार के लिए जाने की आज्ञा मांगी। तथागत ने कहा,...

रामराज्य के सजग प्रहरी, कर्मयोगी शत्रुघ्न

रामायण ग्रंथ एक महासागर की तरह है, जितना ही आप उसमे गहरे पैठेंगे उतने ही मोती मिलेंगे। शत्रुघ्न रामायण के ऐसे महत्वपूर्ण पात्र हैं,...

प्रेम, समर्पण और संस्कार का पर्व करवा चौथ

दिवाली से कुछ दिन पहले मनाया जाने वाला करवा चौथ सही मायने में प्रेम, समर्पण, उल्लास और संस्कार का पर्व है। पौराणिक कथाओं के...

संन्यासी के मायने

एक दिन गुरु गोरखनाथ जी काशी में गंगा नदी के किनारे बैठे हुए थे। उन्होंने वहां एक दंडी संन्यासी को गंगा में अपना दंड...

शाश्वत आत्मा

घटना सन‍् 1947 की अरुणाचल स्थित ‘रामणाश्रम’ की है। बीसवीं सदी के महान संत रमण महर्षि की बायीं भुजा में एक ट्यूमर हो गया।...

धर्म, सदाचार, सत्य की प्रतिष्ठा का पर्व विजयादशमी

भारतीय संस्कृति वीरता की पूजक है, शौर्य की उपासक है। प्रत्येक व्यक्ति और समाज के रुधिर में वीरता का प्रादुर्भाव हो, विजयादशमी मनाये जाने...

अष्टम‍् : महागौरी

नवरात्र के आठवें दिन मां दुर्गा के आठवें स्वरूप महागौरी का पूजन किया जाता है। इनका वर्ण गौर है। चार भुजाएं हैं। वाहन वृषभ...

सप्तम‍् : कालरात्रि

नवरात्र के सातवें दिन मां दुर्गा के सातवें स्वरूप कालरात्रि का पूजन किया जाता है। मां के शरीर का रंग काला है। बाल बिखरे...

तराशने वाली नज़र

राम बयार मूर्तियां बनाने में सिद्धहस्त था। उनका शागिर्द दिवाकर भी उस्ताद के बराबर सुघड़ मूर्तियां बनाता था। सप्ताह भर में बनी हुई मूर्तियों...

Most Read

Open chat