Wednesday, June 23, 2021
HomeBusinessकोरोना के इलाज के लिए मिलेगा 5 लाख तक का लोन, जानें...

कोरोना के इलाज के लिए मिलेगा 5 लाख तक का लोन, जानें पूरी खबर


देशभर में कोरोना कहर बरपा रहा है लोग के लिए कोरोना शारीरिक चुनौतियों के साथ – साथ आर्थिक चुनौती भी बन गया है इस बीच बड़ा ऐलान किया गया है। अब कोरोना के इलाज के लिए सरकारी बैंकों से लोन मिल सकेगा. बैंक कोविड के इलाज के लिए 25,000 से लेकर 5 लाख तक का अनसिक्योर्ड लोन देंगे. ये घोषणा इंडियन बैंक असोसिएशन (IBA) और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने की है कुछ समय पहले केंद्रीय रिजर्व बैंक (RBI) ने अपनी इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम (ECGLS) के तहत कोविड लोन बुक की योजना जारी की थी, जिसमें बैंकों को कोरोना के इलाज के लिए अनसिक्योर्ड पर्सनल लोन के साथ हेल्थकेयर बिजनेसेज़ को स्वास्थ्य सुविधाएं तैयार करने के लिए लोन देने की बात थी।

इन लोगों को मिलेगा लोन

बैंक कोरोना के इलाज के लिए सैलरीड, नॉन-सैलरीड और पेंशनर्स को अनसिक्योर्ड लोन देंगे। इस कैटेगरी में आने वाला कोई भी शख्स लोन के लिए अप्लाई कर सकेगा। जिसमें न्यूनतम लोन 25,000 से अधिकतम लोन 5 लाख तक का मिलेगा। वहीं 5 साल के अंदर लोन चुकाना होगा।

इतनी होगी ब्याज दर

SBI ने कोविड अनसिक्योर्ड लोन के लिए ब्याज दर 8.5 फीसदी सालाना रखी है. वहीं प्रमुख सरकारी बैंक ने कहा है कि बाकी बैंक अपनी दर तय खुद निर्धारित कर सकते हैं।

IBA और SBI ने बताया कि अस्पतालों और नर्सिंग होम्स में ऑक्सीजन प्लांट तैयार करने के लिए बैंक 2 करोड़ तक का लोन देंगे, जिसपर 7.5 फीसदी का ब्याज लिया जाएगा. वहीं स्वास्थ्य इंफ्रास्ट्रक्चर बनाने या फिर हेल्थकेयर प्रॉडक्ट बनाने के लिए 100 करोड़ तक का लोन दिया जाएगा.

बता दें कि RBI ने कहा था कि RBI इमरजेंसी मेडिकल सुविधाओं के लिए फंड की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए 50,000 करोड़ के टर्म-लिक्विडटी की सुविधा देगा. वहीं पब्लिक सेक्टर बैंकों ने रेजॉल्यूश फ्रेमवर्क 2.0 के तहत मध्यम, लघु और सूक्ष्म उद्योगों के लोन रिस्ट्रक्चरिंग का फॉर्मूला भी तैयार किया गया है.

गौरतलब है कि कोरोना के कहर के बीच देश के कई राज्यों में ऑक्सीजन की किल्लत हो गई थी जिसके चलते कई मरीजों ने दम तोड़ दिया था तो कई लोगों को कई गुना ज्यादा दाम में ऑक्सीजन खरीदना पड़ा था।

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments