India needs 4-5 banks 'like SBI'
India needs 4-5 banks 'like SBI'

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने रविवार को कहा कि भारत को अर्थव्यवस्था और उद्योग की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए 4-5 ‘एसबीआई जैसे आकार वाले’ बैंकों की जरूरत है। उन्होंने भारतीय बैंक संघ (आईबीए) की वार्षिक आम बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि उद्योग को यह सोचने की जरूरत है कि भारतीय बैंकिंग को तत्काल और दीर्घकालिक अवधि में कैसा होना चाहिए। वित्त मंत्री ने कहा कि ​​दीर्घकालिक भविष्य में यह क्षेत्र काफी हद तक डिजिटल प्रक्रियाओं द्वारा संचालित होने जा रहा है और बैंकिंग उद्योग के टिकाऊ भविष्य के लिए परस्पर संबंद्ध डिजिटल प्रणाली की जरूरत है।

सीतारमण ने कहा कि भविष्य की चुनौतियों को देखते हुए हमें अधिक संख्या में बैंकों की जरूरत ही नहीं, बल्कि बड़े बैंकों की भी जरूरत है। वित्त मंत्री ने कहा, ‘भारत को कम से कम चार एसबीआई के आकार के बैंकों की जरूरत है… हमें बदलती और बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए बैंकिंग को बढ़ावा देने की जरूरत है।’

यूपीआई को मजबूत करने पर जोर

वित्त मंत्री ने यूपीआई को मजबूत करने पर जोर देते हुए कहा, ‘आज भुगतान की दुनिया में, भारतीय यूपीआई ने वास्तव में बहुत बड़ी छाप छोड़ी है। हमारा रुपे कार्ड जो विदेशी कार्ड की तरह ग्लैमरस नहीं था, अब दुनिया के कई अलग-अलग हिस्सों में स्वीकार किया जाता है।’ उन्होंने बैंकरों से यूपीआई को मजबूत करने की अपील की।

India needs 4-5 banks ‘like SBI’

Leave a Reply