According to Vastu, choose the land of the new house
According to Vastu, choose the land of the new house

हर व्यक्ति अपने जीवन में अपने घर के लिए दिन-रात जुटा रहता है। वर्तमान में जमीन की कमी की वजह से अधिक लोगों को घर उपलब्ध कराने के लिए फ्लैट वृद्धि की जा रही है। शहरों में मल्टीस्टोरी बिल्डिंग बन रही हैं। घर में सुख-शांति और समृद्धि के लिए वास्तु के नियमों का पालन करना चाहिए है। मकान केवल चार दीवारों से घिरी हुई गढ़न नहीं होती है। घर में सुख-शांति नहीं है तो वह घर, घर जैसा नहीं लगता। यदि आप भी फ्लैट लेने का चाहते हैं तो वास्तु के हिसाब से आकलन कराये और कुछ विशेष बातों का ध्यान आवश्यक ही रखे

इन बातों का रखे खास ख्याल –

घर बनने से पहले ज़मीन किस काम के लिए अभ्यस्त होती थी, इसका पता जरूर करें और ज़मीन की पूरी जानकारी प्राप्त करे की घर बनाने से पहले जमीन पर कोई क्रब या कब्रिस्तान तो नहीं था। वास्तु के अनुसार घर के नीचे दबी वस्तु सकारात्मक और नकारात्मक शक्ति प्रदान करती है जिसकी वजह से घर में नकारात्मक प्रभाव पड़ता हैं। परन्तु तीन मंजिल से ऊपर फ्लैट पर नकारात्मक दोष का प्रभाव नहीं होता, मतलब तीन मंजिल से ऊपर का फ्लैट हो तो फिर बिल्डिंग की जमीन की पूर्व स्थिति का अधिक मायने नहीं होता।

Every person is busy day and night for his home in his life. Presently due to paucity of land, flats are being increased to

Leave a Reply