Thursday, October 29, 2020
Home NEWS कैप्टन अमरेंद्र सिंह के फार्म हाउस पर बोला हल्ला

कैप्टन अमरेंद्र सिंह के फार्म हाउस पर बोला हल्ला

आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब के सीनियर नेता और नेता प्रतिपक्ष हरपाल सिंह चीमा के नेतृत्व में ‘आप’ विधायकों और नेताओं ने बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह के फार्म हाउस पर हल्ला बोला, लेकिन भारी नाकाबंदी के कारण पंजाब पुलिस ने सभी ‘आप’ नेताओं को सिसवां टी-प्वाइंट के नजदीक रोक लिया गया। इस दौरान गुस्साये सभी ‘आप’ नेता धरने पर बैठ गए फिर नाका तोड़कर जाने की कोशिश के दौरान स्थानीय एसडीएम की मौजूदगी में हरपाल सिंह चीमा सहित ‘आप’ नेताओं को ज़बरन उठाकर पास के मुल्लांपुर थाने में ले गये। वही़, मीडिया को चकमा देने के लिए हिरासत में लिए ‘आप’ नेताओं को खरड़ थाने ले जाया गया। जहां करीब एक घंटा रखने के उपरांत उन्हें रिहा कर दिया गया। इससे पहले सिसवां नाके पर घेराबंदी के दौरान मीडिया के साथ बातचीत करते हुए हरपाल चीमा ने कहा कि देश के तानाशाह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह मुख्यमंत्री अमरेंद्र सिंह में भी हिटलर की आत्मा प्रवेश कर चुकी है, जो किसी भी की प्रवाह नहीं कर रहा।

हरपाल सिंह चीमा ने खेती बिलों बारे में विधानसभा का विशेष अधिवेशन बुलाने की मांग करते कहा कि इससे पहले सभी किसान संगठनों के नुमाइंदों और खेती विशेषज्ञों सहित इस संघर्ष में शामिल सभी दल और प्रमुख राजनैतिक दलों की मैराथन बैठक बुलाई जाये। चीमा ने कहा दलित विद्यार्थियों के पोस्ट मैट्रिक वजीफा योजना में 64 करोड़ रुपये का घोटाला करने वाले भ्रष्ट मंत्री साधु सिंह धर्मसोत को क्लीन चिट देकर अमरेंदर सिंह ने लाखों दलित विद्यार्थियों के साथ धोखा किया है। इसलिए धर्मसोत को तुरंत बर्खास्त करके गिरफ्तार किया जाये।

हिरासत में लिए ‘आप’ नेताओं में प्रिंसिपल बुद्ध राम, कुलतार सिंह संधवां, प्रो. बलजिंदर कौर, मास्टर बलदेव सिंह जैतों, मनजीत सिंह बिलासपुर, सर्बजीत कौर माणूके, कुलवंत सिंह पंडोरी, मीत हेयर, रुपिंदर कौर रूबी (सभी विधायक), प्रदेश महासचिव हरचंद सिंह बरसट और कई कार्यकर्ता शामिल थे।

चंडीगढ़ (ट्रिन्यू) : पंजाब में खेती कानूनों के खिलाफ संघर्ष कर रहे किसान संगठनों द्वारा रेलों का चक्का जाम, टोल प्लाजों का घेराव तथा भाजपा नेताओं के निवास स्थानों पर धरना लगातार जारी है। किसानों के प्रदर्शन का 8वां दिन है तथा केंद्र सरकार द्वारा भेजे बातचीत के निमंत्रण को ठुकराने के बाद गुस्साये किसानों की संख्या बढ़ने लगी है। किसान संगठनों के मुताबिक प्रदेश में 100 से ज्यादा स्थानों पर धरना-प्रदर्शन किये जा रहे हैं। उधर, भारतीय किसान यूनियन (एकता उगराहां) के महासचिव सुखदेव सिंह कोकरी ने कहा कि हरियाणा के किसानों पर सिरसा में पुलिस की कार्रवाई के विरोध में पक्के धरने पर बैठे हरियाणा के किसानों के समर्थन में कल शुक्रवार को दोपहर 12 से 2 बजे तक पंजाबभर में सड़कों को जाम किया जाएगा।

चंडीगढ़ (ट्रिन्यू) : मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से किसान संगठनों को मालगाड़ियों के लिए रेल मार्ग खोले जाने की अपील की गयी है जिस पर किसान संगठनों ने चर्चा शुरू कर दी है। बेशक किसान संगठनों द्वारा इस अपील पर संयुक्त बैठक में फैसला किया जाना है। गौरतलब है कि आज मुख्यमंत्री का पत्र मिलने के बाद किसान संगठनों ने तालमेल शुरू कर दिया है, वहीं, इस दौरान भारतीय किसान यूनियन (उगराहां) ने किसान आंदोलन का मुंह शहरों की तरफ करने का फैसला किया है। जानकारी अनुसार 30 किसान संगठनों की संयुक्त बैठक में उगराहां ग्रुप ने यह तजवीज़ रखी थी कि ग्रामीण क्षेत्रों में किसान आंदोलन पूरी तरह गर्म हो चुका है तथा अब इसका मुंह शहरी क्षेत्रों की तरफ मोड़ा जाये।

Avatar
aakedekhhttps://aakedekh.in
Aakedekh : Live TV लाइव Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

जींद में रन फार यूनिटी : बच्चों संग दौड़े पुलिस अधिकारी और जवान

बुधवार सुबह पुलिस प्रशासन द्वारा ‘रन फॉर यूनिटी’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया। डीएसपी हेड क्वार्टर पुष्पा खत्री की अध्यक्षता में आयोजित...

गुरुग्राम में कोरोना बेलगाम, 397 पॉजिटिव

कोरोना संक्रमण के नए मामलों की संख्या 397 हो गई है। अब संक्रमण पीड़ितों की कुल संख्या 29 हजार के करीब पहुंचने को...

टैरर फंडिंग : कश्मीर और दिल्ली में एनआईए के छापे

राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) ने धर्मार्थ कार्यों के वास्ते जुटाए गए धन को ट्रस्ट और एनजीओ द्वारा जम्मू-कश्मीर में ‘अलगाववादी गतिविधियों’ में...

प्रवासी भारतीय पासपोर्ट में दर्ज करा सकेंगे स्थानीय पता

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) एवं अन्य स्थानों पर प्रवासी भारतीय अपने पासपोर्ट में अब विदेशों का स्थानीय पता दर्ज करा सकेंगे। दुबई...

Recent Comments

Open chat