Wednesday, October 21, 2020
Home NEWS BUSINESS सेंसेक्स में 1,115 अंक की भारी गिरावट

सेंसेक्स में 1,115 अंक की भारी गिरावट

शेयर बाजारों में बृहस्पतिवार को लगातार छठे कारोबारी सत्र में गिरावट का सिलसिला जारी रहा। वैश्विक बाजारों में बिकवाली के बीच यहां भी सेंसेक्स में 1,115 अंक की भारी गिरावट दर्ज की गई। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स कमजोर रुख के साथ खुलने के बाद और नीचे गया। अंत में यह 1,114.82 अंक या 2.96 प्रतिशत के नुकसान से 36,553.60 अंक पर बंद हुआ। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 326.30 अंक या 2.93 प्रतिशत टूटकर 10,805.55 अंक रह गया। सेंसेक्स में शामिल 30 शेयरों में हिंदुस्तान यूनिलीवर को छोड़कर अन्य सभी में नुकसान रहा। इंडसइंड बैंक के शेयर में सबसे अधिक सात प्रतिशत की गिरावट दर्ज हुई। बजाज फाइनेंस, महिंद्रा एंड महिंद्रा, टेक महिंद्रा, टीसीएस और टाटा स्टील में भी गिरावट रही। कारोबारियों ने कहा कि अर्थव्यवस्था के पुनरोद्धार को लेकर चिंता तथा केंद्रीय बैंकों की ओर से ताजा प्रोत्साहनों के अभाव में वैश्विक बाजारों में बिकवाली का सिलसिला चला। इसके अलावा कई अर्थव्यवस्थाओं में कोविड-19 कर दूसरा दौर शुरू होने की आशंका से भी धारणा प्रभावित हुई। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 32 पैसे टूटकर 73.89 रपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। इस बीच, वैश्विक बेंचमार्क ब्रेंट कच्चा तेल 0.22 प्रतिशत के नुकसान से 41.68 डॉलर प्रति बैरल पर बोला गया।

Avatar
aakedekhhttps://aakedekh.in
Aakedekh : Live TV लाइव Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

डिफाल्टरों को दिखानी होगी मास्क वाली सेल्फी

ऐप आधारित टैक्सी सेवा देने वाली कंपनी उबर ने कहा है कि उसके जिन यात्रियों ने अपनी पिछली यात्रा के दौरान मास्क...

भोंडसी गांव में राम मंदिर की जगह पर नहीं बनेगा पुलिस थाना

गांव भोंडसी में ग्रामीणों ने राम मंदिर की जमीन पर पुलिस थाना बनवाने के पंचायत के फैसले का कड़ा विरोध किया है।...

बुजुर्ग ने खुद के सिर में मारी गोली, गंभीर

मनीमाजरा के हाउसिंग काॅम्पलैक्स डूपलेक्स में सोमवार तड़के केंद्र सरकार से रिटायर्ड इंजीनियर ने खुद को गोली मार ली। 70 वर्षीय सुरेन्द्र...

प्ले वे स्कूल प्राइवेट संस्थाओं को सौंपने का फैसला वापस ले सरकार

वर्तमान सरकार द्वारा निजीकरण को बढ़ावा देने के लिए आए दिन विभिन्न विभागों को बंद करने का जो निर्णय लिया जा रहा...

Recent Comments

Open chat