Wednesday, September 30, 2020
Home SECTIONS भगवान का दोस्त

भगवान का दोस्त

एक बच्चा दोपहर में नंगे पैर फूल बेच रहा था। लोग मोलभाव कर रहे थे। एक सज्जन ने उसके पैर देखे तो बहुत दु:खी हुआ। वह पास ही की एक दुकान से बूट लेकर आया और कहा, ‘बेटा! बूट पहन ले।’ लड़के ने फटाफट बूट पहने, बड़ा खुश हुआ और उस आदमी का हाथ पकड़कर कहने लगा, ‘आप भगवान हो।’ वह आदमी घबराकर बोला, ‘नहीं… नहीं… बेटा! मैं भगवान नहीं।’ फिर लड़का बोला, ‘ज़रूर… आप भगवान के दोस्त होंगे क्योंकि मैंने कल रात ही भगवान को अरदास की थी कि भगवानजी, मेरे पैर बहुत जलते हैं। मुझे बूट लेकर दो।’ वह आदमी आंखों में पानी लिये मुस्कुराता हुआ चला गया, पर वह जान गया था कि भगवान का दोस्त बनना ज्यादा मुश्किल नहीं है। कुदरत ने दो रास्ते बनाए हैं—देकर जाओ, या छोड़कर जाओ। साथ लेकर जाने की कोई व्यवस्था नहीं।

Avatar
aakedekhhttps://aakedekh.in
Aakedekh : Live TV लाइव Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

शेखर कपूर बने एफटीआईआई के अध्यक्ष

फिल्मकार शेखर कपूर को पुणे के भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) सोसायटी का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। उन्हें संस्थान की...

अयोध्या में विवादित ढांचा ढहाए जाने पर फैसला आज

लखनऊ स्थित सीबीआई की विशेष अदालत कल बुधवार को अयोध्या में 6 दिसंबर 1992 को विवादित ढांचा ढहाए जाने के केस में...

एमएसपी और उपज बेचने की आजादी, दोनों रहेंगी

नये कृषि कानूनों को लेकर प्रदर्शनाें के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कांग्रेस पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा कि...

रकुलप्रीत की शिकायत पर अदालत ने केन्द्र से जवाब मांगा

दिल्ली उच्च न्यायालय ने अभिनेत्री रकुल प्रीत सिंह की उस शिकायत पर मंगलवार को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारतीय प्रेस परिषद (पीसीआई)...

Recent Comments

Open chat