Friday, September 25, 2020
Home NEWS 7 राज्य नीट-जेईई के खिलाफ

7 राज्य नीट-जेईई के खिलाफ

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सहित 7 राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने देश में कोरोना की स्थिति को देखते हुए नीट और जेईई की परीक्षाएं स्थगित कर तिथि आगे बढ़ाने का आग्रह किया है। जीएसटी काउंसिल की बृहस्पतिवार को होने वाली बैठक से पहले बुधवार को 7 राज्यों के गैर-भाजपाई मुख्यमंत्रियों ने इस समय ये परीक्षाएं कराने पर विरोध जताया। बैठक में अमरेंद्र सिंह और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि इन परीक्षाओं को रोकने के लिए राज्यों को सुप्रीम कोर्ट का रुख करना चाहिए। हालांकि, झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि कोर्ट जाने से पहले मुख्यमंत्रियों को पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर परीक्षाओं को टालने की मांग करनी चाहिए।

अमरेंद्र ने कहा कि सितंबर में कोरोना के मामले और बढ़ सकते हैं, ऐसी स्थिति ये परीक्षाएं कैसे कराई जा सकती हैं? महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि कोरोना संकट में परीक्षाएं कैसे ली जा सकती हैं? राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने भी परीक्षाओं को स्थगित करने की पैरवी की। सोनिया ने अंतरिम अध्यक्ष के तौर पर दोबारा पार्टी की कमान संभलने के बाद जीएसटी और नीट-जेईई की परीक्षा के मुद्दे पर विपक्ष को एक साथ लाने की पहल की। उन्हें टीएमसी प्रमुख मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का समर्थन मिला। बैठक में नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर भी चिंता जताई गई।

सोनिया गांधी के साथ डिजिटल बैठक में गैर-भाजपाई 7 राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने प्रदेशों के अधिकारों के लिए केंद्र सरकार के खिलाफ एकजुट होने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के कारण राज्यों की आर्थिक स्थिति को देखते हुए मोदी सरकार को जीएसटी के मुआवजे का पूरा भुगतान करना चाहिए। सोनिया गांधी ने यह आरोप लगाया कि केंद्र सरकार की ओर से जीएसटी से जुड़ा मुआवजा देने से इनकार करना राज्यों और जनता के साथ छल है। अमरेंद्र सिंह ने ममता बनर्जी के सुझाव का समर्थन करते हुए कहा कि जीएसटी पर मुख्यमंत्रियों को एकजुट होकर पीएम मोदी को हकीकत से रू ब रू करवाना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोरोना के कारण हम ऐसी स्थिति में फंस गए है, जहां राज्यों की वित्तीय हालत खस्ता हो चली है। जीएसटी परिषद की बैठक 27 अगस्त को होगी।

और देरी ठीक नहीं : राव

आईआईटी दिल्ली के निदेशक वी रामगोपाल राव ने कहा कि जेईई और नीट परीक्षाओं में और देरी का न केवल एकैडमिक कैलेंडर पर, बल्कि प्रतिभाशाली छात्रों के करियर पर भी गंभीर असर पड़ेगा। एक सोशल मीडिया पोस्ट में उन्होंने लिखा, ‘हम पहले ही 6 महीने गंवा चुके हैं। अगर सितंबर में परीक्षाएं कराते हैं तो हम कम से कम दिसंबर में तो आईआईटी में सत्र (ऑनलाइन ही सही) शुरू कर सकते हैं। ऐसे में परीक्षा के पैटर्न या प्रवेश प्रक्रिया से छेड़छाड़ भी नुकसानदेह और अनुचित होगी।’

14 लाख ने डाउनलोड किए प्रवेशपत्रनीट और जेईई मेन्स के लिये 14 लाख से अधिक उम्मीदवारों ने प्रवेशपत्र डाउनलोड किए हैं। राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) ने बुधवार को दोपहर 12 बजे नीट के लिये प्रवेशपत्र जारी किए । पहले तीन घंटे में 4 लाख से अधिक उम्मीदवारों ने प्रवेश पत्र डाउनलोड किए। शाम तक यह संख्या बढ़कर 6.84 लाख हो गई। जेईई मेन्स के लिये 8.58 लाख में से 7.41 लाख उम्मीदवारों ने प्रवेश पत्र डाउनलोड कर लिया है। 332 उम्मीदवारों ने परीक्षा केंद्र बदलने का आग्रह किया और उस पर विचार किया जा रहा है।

Avatar
aakedekhhttps://aakedekh.in
Aakedekh : Live TV लाइव Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मोदी सरकार ने पड़ोसियों से खराब किए रिश्ते : राहुल

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बंगलादेश के साथ भारत के संबंधों से जुड़ी एक खबर को लेकर बुधवार को आरोप...

बारिश के कारण बाॅम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई स्थगित

मुंबई और उपनगरी इलाकों में भारी बारिश के मद्देनजर बाॅम्बे हाईकोर्ट ने बुधवार को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये होने वाली सुनवाई समेत...

कंपनियों को बंद करने की बाधाएं होंगी खत्म

संसद ने बुधवार को 3 प्रमुख श्रम सुधार विधेयकों को मंजूरी दे दी। इनके तहत कंपनियों को बंद करने की बाधाएं खत्म...

विवादास्पद ‘शार्ट रन’ फैसले को भुला जीत दर्ज करना चाहेगा किंग्स इलेवन

किंग्स इलेवन पंजाब की टीम गुरुवार को जब विराट कोहली की रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के खिलाफ मुकाबले के लिये मैदान में उतरेगी...

Recent Comments

Open chat