Sunday, September 20, 2020
Home NEWS सोनिया बनी रहेंगी अंतरिम अध्यक्ष

सोनिया बनी रहेंगी अंतरिम अध्यक्ष

कांग्रेस की सर्वोच्च नीति निर्धारक संस्था कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की सोमवार को 7 घंटे चली बैठक में तय हुआ कि अगले महाधिवेशन तक सोनिया गांधी ही अंतरिम अध्यक्ष बनी रहेंगी। कोरोना काल के बाद महाधिवेशन में अध्यक्ष का चुनाव कर लिया जाएगा।

बैठक में सोनिया को लिखे एक पत्र पर खूब घमासान हुआ। नेतृत्व परिवर्तन की मांग को लेकर पत्र लिखने वालों के सुर शाम होते बदल गए और आरोप-प्रत्यारोपों के बीच वे भी राहुल गांधी को फिर से पार्टी की कमान थामने के लिए मनाने की कोशिशों में शामिल हो गए। हालांकि, राहुल नहीं माने। इसके बाद सोनिया को कमान थामने के लिए राजी करके, संगठनात्मक बदलाव करने के लिए अधिकृत भी कर दिया गया। कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल और मीडिया विभाग प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने बाद में बताया कि सीडब्ल्यूसी ने राहुल से कमान थामने का आग्रह किया। कार्यसमिति ने अपने 5 सूत्रीय प्रस्ताव में सोनिया और राहुल के नेतृत्व में आस्था जतायी। सूत्रों के अनुसार राहुल ने कहा कि सोनिया गांधी के सहयोग के लिए एक व्यवस्था बनाई जानी चाहिए।

खास बात यह है कि कार्यसमिति में वे नेता भी शामिल हैं, जिनके लिखे पत्र से पार्टी दो खेमों में बंटी दिखायी दी। सीडब्ल्यूसी ने कहा कि इस महत्वपूर्ण मोड़ पर पार्टी एवं इसके नेतृत्व को कमजोर करने की अनुमति किसी को नहीं दी जा सकती।

सीडब्ल्यूसी ने पत्र लिखने वालों को चेतावनी देते हुए एक प्रस्ताव में कहा कि पार्टी के अंदरूनी मामलों पर विचार-विमर्श मीडिया के माध्यम से या सार्वजनिक पटल पर नहीं किया जा सकता। पार्टी ने कोरोना महामारी, गिरती अर्थव्यवस्था व आर्थिक संकट तथा चीन की घुसपैठ समेत कई मुद्दों का उल्लेख कर सभी कांग्रेसजनों को एकजुट होने का आग्रह किया।

बैठक की गोपनीयता पर सवाल :इस बैठक की गोपनीयता को लेकर भी सवाल उठाए गए। कहा गया कि कुछ नेता बैठक की पल-पल की जानकारी मीडिया को दे रहे थे। कांग्रेस नेतृत्व को ऐसी आशंका पहले से थी। इसलिए यह बैठक जूम के बजाय किसी अन्य एप के माध्यम से की गयी। बैठक में मौजूद लोग सिर्फ अपना ही वीडियो रिकॉर्ड कर सकते थे।

वरिष्ठ नेताओं के लिखे पत्र पर घमासान

वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग से हुई इस बैठक में पार्टी के वरिष्ठ नेता आमने-सामने आ गये। नेतृत्व परिवर्तन को लेकर लिखे पत्र ने तूल पकड़ लिया। ऐसे में सोनिया ने इस्तीफे की पेशकश करके सीडब्ल्यूसी से नया अध्यक्ष चुनने की प्रक्रिया शुरू करने के लिए कह दिया। उन्होंने वेणुगोपाल को एक पत्र देकर कांग्रेस नेताओं के लिखे पत्र का जवाब भी दिया। इस पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और एके एंटनी ने हस्तक्षेप कर सोनिया से अध्यक्ष पद पर बने रहने का अनुरोध किया। सूत्रों के अनुसार राहुल गांधी ने तो इस पत्र को लेकर यहां तक कह दिया कि यह भाजपा के साथ मिलीभगत से लिखा गया है। उन्होंने पत्र लिखने के समय पर भी सवाल उठाए और कहा कि सोनिया गांधी के अस्पताल में भर्ती होने के समय ही पार्टी नेतृत्व को लेकर पत्र क्यों भेजा गया। तब राजस्थान में कांग्रेस सरकार संकट का सामना कर रही थी। प्रियंका वाड्रा ने राहुल की बात पर सहमति जतायी।

Avatar
aakedekhhttps://aakedekh.in
Aakedekh : Live TV लाइव Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

पंजाब में 70 ने तोड़ा दम 2496 नये मामले

पंजाब में सोमवार को कोरोना से 70 और लोगों की मौत हो गई। इसके साथ ही राज्य में इस महामारी से दम...

मतलब यह नहीं कि फैसला मान लिया

वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को कहा कि अवमानना मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा उन पर लगाये गये एक रुपये का सांकेतिक...

जीत के करीब पहुंचकर हारा ऑस्ट्रेलिया

तेज गेंदबाजों के बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर इंगलैंड ने दूसरे एक दिवसीय क्रिकेट मैच में आॅस्ट्रेलिया को 24 रन से हराकर...

अमेरिका में ऑरैकल का होगा टिकटॉक

अमेरिका में लोकप्रिय वीडियो शेयरिंग ऐप टिकटॉक के अधिग्रहण की दौड़ में ऑरैकल ने माइक्रोसॉफ्ट को पछाड़ दिया है। सत्य नाडेला की...

Recent Comments

Open chat