Sunday, September 27, 2020
Home NEWS आंकड़ेबाजी के बावजूद चंडीगढ़ 16वें स्थान पर

आंकड़ेबाजी के बावजूद चंडीगढ़ 16वें स्थान पर

आंकड़ों में कथित हेराफेरी व करोड़ों रुपये खर्च करने के बावजूद चंडीगढ़ स्वच्छ सर्वेक्षण अभियान में देश में पहले 10 शहरों में अपना स्थान नहीं बना पाया। चंडीगढ़ को देशभर के स्वच्छ शहरों में इस बार 16वें स्थान पर रखा गया है व यह रैंकिंग पिछली बार से कुछ बेहतर है। पिछली बार चंडीगढ़ 20वें स्थान पर था। एक से दस लाख की आबादी वाले शहरों में चंडीगढ़ को 8वां स्थान मिला। रैंकिंग में मामूली सुधार पर ही निगम में सत्तारुढ़ भाजपा व अधिकारियों ने इसे उपलब्धि बताना शुरु कर दिया है। चंडीगढ़ के पिछड़ने के कारण रहे अनौपचारिक अपशिष्ट कलेक्टरों को मुख्यधारा में लाने और 100 प्रतिशत स्रोत पर कचरे का पृथककरण न करना, 5 सितारा कचरा मुक्त शहर स्टार प्रमाणन प्राप्त नहीं कर पाना और इसके लिए उसका दावा खारिज कर उसे मात्र 3 स्टार रेटिंग मिलना, वैज्ञानिक रूप से अपशिष्ट प्रबंधन कर शून्य लैंडफिल न कर पाना आदि। 

सिटी फोरम ऑफ रेजिडेंट्स वेलफेयर ऑर्गेनाइजेशन के संयोजक विनोद वशिष्ठ ने कहा कि नगर निगम में सत्तारूढ़ दल के आपसी भेदभाव के कारण योजनायें पूरी तरह से सिरे नहीं चढ़ पाई। 

सिटी ब्यूटीफुल का पिछड़ना दुर्भाग्यपूर्ण : बंसल 

पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन कुमार बंसल ने स्वच्छ सर्वेक्षण में चंडीगढ़ को मिले रैंक को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया गया। उन्होंने कहा कि जिस शहर को सिटी ब्यूटीफुल के रूप में जाना जाता रहा है, आज वह स्वछता रैंकिंग गिरकर 16 वें स्थान पर पहुंच गया है। कांग्रेस के शासन में हमेशा इसकी रैंकिंग उच्च स्थानों में शुमार होती थी पर भाजपा के शासन में पिछले 4 वर्षों से रैंकिंग लगातार प्रशासन और नगर निगम की लापरवाहियों के कारण गिर रही है।  कांग्रेस पार्षद दविन्द्र सिंह बबला ने महापौर राजबाला मलिक को पत्र लिख कर आरोप लगाया कि उन्होंने स्वच्छ भारत मिशन को लिखा है कि पूरे चंडीगढ़ मे कचरा डोर टू डोर कलैक्ट किया जा रहा है व 24 वार्डो मे सैगरीगेशन किया जा रहा है।  फर्जी आंकड़े दिए गए। आने वाली निगम सदन की बैठक में कांग्रेस इसका जवाब मांगेगी। कांग्रेस अध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा का कहना था कि शहर की सांसद को फिल्मों से ज्यादा फ़िल्म इंडस्ट्री से प्यार तभी हुआ शहर का बुरा हाल है।  

पंचकूला और चमका, मिला 56वां स्थान

पंचकूला (ट्रिन्यू) :नगर निगम ने स्वच्छता रैंकिंग सुधार ली है। बृहस्पतिवार को केंद्रीय हाउसिंग एवं अर्बन अफेयर्स की ओर से जारी रैंकिंग में अब पंचकूला 56वें स्थान पर पहुंच गया है। पंचकूला ने वर्ष 2019 में 4267 शहरों में से  71वां रैंक स्थान हासिल किया था। इसमें लोगों को जागरुक करने एवं उनकी फीडबैक का सबसे अहम योगदान रहा। नगर निगम के कार्यकारी अधिकारी जरनैल सिंह ने बताया कि वीडियो के माध्यम से लोगों में जागरुकता लाई गई। स्कूलों, कालेजों, सार्वजनिक स्थानों, मोबाइल पर लोगों को स्वच्छ पंचकूला के बारे में वीडियो भेजकर जागरूक किया। नगर निगम ने सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट सिस्टम को अपनाया और शहर को कचरामुक्त करने में पिछले दो साल में प्रभावी कदम उठाए हैं। स्लम क्षेत्रों में पर्याप्त संख्या में डस्टबिन रखे गए हैं।

Avatar
aakedekhhttps://aakedekh.in
Aakedekh : Live TV लाइव Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

40 करोड़ श्रमिकों के हित सुरक्षित करेंगे विधेयक : अनुराग

केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट अफेयर्स राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने गुरुवार को प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा कि मोदी सरकार द्वारा लाए...

भाजपा नीत राजग सरकार ने किसानों के लिए एमएसपी बढ़ाकर इतिहास रचा : मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज प्रधानमंत्री ने भाजपा नेताओं को डिजिटल माध्यम से संबोधित करते हुए कहा कि देश के छोटे किसान...

दिल्ली दंगे उमर खालिद को भेजा 22 अक्तूबर तक न्यायिक हिरासत में

दिल्ली की एक अदालत ने जेएनयू के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद को बृहस्पतिवार को 22 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज...

छोटा सा पौधा थोड़ा सा पानी

अमूमन हर किसी की ख्वाहिश होती है कि उसका घर हरे-भरे पौधों से सजा हो। लेकिन जगह की कमी और बिजी लाइफ...

Recent Comments

Open chat