Thursday, September 24, 2020
Home SECTIONS DHARAM प्रेम-भक्ति का समर्पण

प्रेम-भक्ति का समर्पण

सुदामा अपने बाल सखा द्वारिकाधीश श्रीकृष्ण से मिलकर अत्यंत हर्षित थे। श्रीकृष्ण से मुलाकात के दौरान अपनी यादों को संजोये वह अपने गांव लौट ही रहे थे कि अचानक वह परेशान हो गए, उनका मन डूबने लगा। दरअसल, सुदामा का द्वारिका जाने का उद्देश्य श्रीकृष्ण को अपनी आर्थिक दुर्दशा से अवगत कराना था, जिससे कुछ मदद मिल सके। लेकिन श्रीकृष्ण के सान्निध्य में सुदामा सब कुछ भूल गए। निराश मन से सुदामा जैसे ही अपनी गली में पहुंचे, तो यह देखकर उनके आश्चर्य का ठिकाना न रहा कि अब उनकी झोपड़ी के स्थान पर महलनुमा घर है, पत्नी ने राजसी वस्त्र पहन रखे हैं, घर में सब आरामदायक साजो-सामान है। सुदामा ने अपनी पत्नी से पूछा, ‘मैंने श्रीकृष्ण को अपनी आर्थिक तंगी के बारे में कुछ नहीं बताया। श्रीकृष्ण के सान्निध्य में तो मैं अपनी सारी चिंताओं को ही भूल गया था फिर यह सब कैसे हो गया?’ पत्नी निरुत्तर थी। सुदामा ने अपनी पत्नी से कहा, ‘इस पूरे घटनाक्रम में हमारे लिए एक महत्वपूर्ण शिक्षा यह है कि हम ईश्वर से सांसारिक वस्तुओं की याचना नहीं, बल्कि प्रभु को अपने हृदय का गहनतम प्रेम तथा भक्ति समर्पित करें और उनका प्रेम प्राप्त करें। दिव्य मित्रता से प्रत्येक आवश्यकता की पूर्ति स्वयं ही हो जाती है।’ प्रस्तुति : मधुसूदन शर्मा

Avatar
aakedekhhttps://aakedekh.in
Aakedekh : Live TV लाइव Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सिद्धू ने कृषि विधेयकों को बताया ‘काला कानून’

पंजाब के विधायक एवं पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने संसद में पारित कृषि संबंधी विधेयकों को मंगलवार को 'काला कानून' करार...

विपक्ष करेगा सत्र का बहिष्कार

कृषि संबंधी बिलों से पैदा हुए विवाद से सियासत गरमा गयी है। राज्यसभा के 8 सांसदों का निलंबन रद्द होने तक कांग्रेस...

14 घंटे चला चीन-भारत सैन्य वार्ता का छठा दौर

भारत और चीन के बीच 14 घंटे चली छठे दौर की सैन्य वार्ता के दौरान पूर्वी लद्दाख में अत्यधिक ऊंचाई पर स्थित...

बाइडेन की जीत होगी चीन की जीत : ट्रंप

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि देश में नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी...

Recent Comments

Open chat