Friday, September 25, 2020
Home SECTIONS KAVITA मेरा भारत महान

मेरा भारत महान

जब हवा ज़हर थी, मुँह खुल्ले थे।
अब हवा साफ है, पर मुँह बंद है।
जिनके घर लाखों तन्खाह आवे,
वो नेता अपने घर में बंद है।
और जिसका सब कुछ बंद हुआ,
उसके खर्चे सब चालू है।
कहीं किस्तें, कहीं किराया, फीस देना भी ज़रूरी है,
तेरे लिए बंद सबकुछ, पर नेता की शादी ज़रूरी है।
दिल्ली के बंद कमरे में, विज्ञापन करोड़ों में बनता है,
पर मध्यम वर्ग कैसे है मर रहा, ये साला कौन सुनता है।
अमीर का भरा हुआ है, गरीब का पोषण चालू है,
मध्यम वर्ग सिर्फ भरे टैक्स, घर मे न आटा और न आलू है।
दौर है ये समुद्र मंथन का, कब क्या है जाने भगवान,
नेता फिर भी छाप रहे, ये है मेरा भारत महान।
खिलवाड़ किये प्रकृति से, अब वो बदला ले रहे,
सरकार दिखें सिर्फ टीवी पे, ज्ञान की बातें पेल रहे।
राई पर है हंगामा, पहाड़ पर क्यों सब मौन है?
आकाश रोहिल्ला तुम जैसे को, मारने वाले ये नेता कौन है?

Avatar
aakedekhhttps://aakedekh.in
Aakedekh : Live TV लाइव Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मोदी सरकार ने पड़ोसियों से खराब किए रिश्ते : राहुल

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बंगलादेश के साथ भारत के संबंधों से जुड़ी एक खबर को लेकर बुधवार को आरोप...

बारिश के कारण बाॅम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई स्थगित

मुंबई और उपनगरी इलाकों में भारी बारिश के मद्देनजर बाॅम्बे हाईकोर्ट ने बुधवार को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये होने वाली सुनवाई समेत...

कंपनियों को बंद करने की बाधाएं होंगी खत्म

संसद ने बुधवार को 3 प्रमुख श्रम सुधार विधेयकों को मंजूरी दे दी। इनके तहत कंपनियों को बंद करने की बाधाएं खत्म...

विवादास्पद ‘शार्ट रन’ फैसले को भुला जीत दर्ज करना चाहेगा किंग्स इलेवन

किंग्स इलेवन पंजाब की टीम गुरुवार को जब विराट कोहली की रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के खिलाफ मुकाबले के लिये मैदान में उतरेगी...

Recent Comments

Open chat