Sunday, September 20, 2020
Home SECTIONS INTERVIEW कोरोना से बचना है बहुत आसान, अभी पढ़े

कोरोना से बचना है बहुत आसान, अभी पढ़े

वरिष्ठ संवाददाता पुष्कर पांडेय,नई दिल्ली- कोरोना जैसी महामारी से इस समय पूरा देश लड़ रहा है| इससे बचने केे लिए लोग बहुत से उपाय कर रहे हैं| हमारे वरिष्ठ संवाददाता पुष्कर पांडेय ने देश के पहले आध्यात्मिक उपचारक हितेश चक्रवर्ती से साक्षात्कार किया, जिसमे उन्होंने बताया कि इस महामारी से कैसे बचा जा सकता है

बातचीत केे कुछ अंश-

प्रशन- कोरोना का आध्यात्मिक द्रष्टिकोण क्या है?
उत्तर- देखिये, प्रकृति में हर चीज़ का कुछ ना कुछ उद्देश्य है चाहे वो पेड़-पौधे,पशु-पक्षी या जानवर हों|ऐसे ही कोरोना का भी अपना उद्देश्य है| कोरोना में क्या होता है, गला खराब होता है फेफडो़ में दिक्कत होती है और इंसान की मौत हो जाती है| जब भी कोई ऐसी महामारी आती है तो हमें ये समझना चाहिए कि ये एक संदेश है प्रकृति का,इंसान को कुछ सीख मिलने वाली है| अाज का इंसान क्या करने लगा है कि दिखावे की दुनिया में विश्वास करने लगा है| अपनों से दूर होता जा रहा है और बाहर दिखावे की दुनिया में लीन होता जा रहा है अब इस बीमारी ने क्या किया कि सब कुछ लॉकडाउन कर दिया| ताकि लोग अपने परिवार केे साथ समय बिता सकें| लोग प्रकृति के साथ खिलवाड़ करने लगे है, जंगल केे जंगल काट दिए जाते है, पेड़ काटने लगे है तो प्रकृति अपना हिसाब करना जानती है इसलिए ही ऐसी महामारी लेकर आई|

प्रशन- लॉकडाउन की वजह से लोग इतने दिनों से घर में बंद हैं,तो ऐसे में लोगों को क्या करना चाहिए?
उत्तर- हमारे शरीर केे तीन भाग होते हैं तन,मन और आध्यात्मिक भाग| इंसान क्या कर रहा है अभी भी जीवन की भाग-दौड़ के बारे में सोचता है| ऐसे में क्या होगा लोग डिप्रेशन में जायेंगे और बीपी बढ़ेगा| लोगों को क्या करना चाहिए कि अपने परिवार केे साथ समय बिताना चाहिए| सबसे बड़ी बात ध्यान लगाना चाहिए| जितनी देर ध्यान लगाएंगे उतनी ही मन को शांति मिलेगी| योग करना चाहिए और प्राणायाम करना चाहिए|

प्रशन- कोरोना जैसी महामारी से बचने केे लिए क्या करना चाहिए?
उत्तर- देखिये,कोरोना से एक बात साफ़ कि हमें अपनी जरुरत केे हिसाब से काम करना चाहिए,हमें अपनी जरुरत का ध्यान रखना है ना कि जो हम चाह रहे हैं उसका| अपने आप को समझें कि क्या हमारा जो रहन-सहन है वो सही है| हमारा जो रहन-सहन है वो तो बहुत गलत है क्योंकि हम समाज में खुद को बड़ा मानने की कोशिश करते हैं| कोरोना से बचने केे लिए कुछ स्टेप हैं-
1- परिवार से रिश्ता मजबूत करें, क्योंकि जितना आपका रिश्ता परिवार से मजबूत होगा उतना ही समाज में मजबूत होगा| अगर हम ये सोचें कि पहले बाहर रिश्ता मजबूत करें फिर परिवार से करें तो हम अपने परिवार से दूर होते चले जायेंगे| कोरोना ने बहुत अच्छा संदेश दिया है सामाजिक दूरी, तो समाज से दूर रहें और परिवार से जुड़े|
2- अपनी भावनाओं को समझें,हमारी भावनाओं का हमारे जीवन में बहुत महत्व है| अपनी भावनाओं को मन में ना रखें,दूसरों केे सामने ज़ाहिर करने की आदत बनाये|
3- वो सारी चीज़े करें जो आपको ख़ुशी देती हैं|
4- दिखावटी चीज़े करने से बचें,हक़ीक़त को समझें, अपने जरुरत केे हिसाब से काम करें|
5- योग और प्राणायाम नियमित रुप से करते रहें,कम से कम एक घंटा जरूर करें|
6- खाने-पीने का खास ध्यान रखें,शाकाहारी बने, अगर हम मासाहारी भोजन का सेवन करेंगे तो बिमारियाँ हमें जल्दी घेरेंगी| प्रकृति के द्वारा सब जगह का खान-पान तय है, तो आपके घर केे 20 कि.मी केे दायरे में जो भी चीज़े खाने की हैं उन्हीं का सेवन करें|

प्रशन- बच्चों और बुजुर्गों को इस बीमारी से ज़्यादा खतरा है तो वो लोग कैसे बच सकते हैं?
उत्तर- देखिये,हम क्या करते हैं कि बच्चे अगर कोई अपनी इच्छा रखता है तो हम उसे मना कर देते हैं या फिर डांट देते हैं,ऐसे बचा मायूस हो जाता है| ऐसा बिल्कुल नहीं करना चाहिए| छोटे बच्चों केे लिए माँ का दूध बहुत फायदेमंद होता है लोग क्या करते हैं कि पाउडर वाला दूध पिलाना शुरू करते हैं जो कि बिल्कुल भी ठीक नहीं है| माँ केे दूध से बच्चे की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है| बुजुर्गों को सुबह व्यायाम करना चाहिए,प्राणायाम करना चाहिए जिससे उनकी प्रतिरोधक क्षमता बढ़े|

हितेश चक्रवर्ती ने संदेश दिया कि कोरोना से डरना नहीं है बल्कि मुकाबला करना है| इससे जुडी अफवाहों से बचना है| कोरोना वायरस एक फ्लू है जो हमारी श्वसन प्रणाली को नुकसान पहुँचाता है| अगर ऐसा होता है तो इसका मतलब ये है कि हमारे जीवन में कुछ ऐसी दिक्कतें हैं जो हमें घुटन महसूस करवा रही हैं चाहे वो परिवार की समस्या हो या नौकरी की हमें इन समस्याओं को दूर करना है| अगर आप इन समस्याओं को दूर कर लेंगे तो आपको कोरोना नहीं हो सकता| जो लोग इन समस्याओं में उलझे रहेंगे उन्हें ये वायरस जल्दी नुक्सान पहुंचा सकता है| इसलिए हमेशा खुश रहें|

Avatar
aakedekhhttps://aakedekh.in
Aakedekh : Live TV लाइव Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

नयी शिक्षा नीति का मकसद उत्कृष्टता : कोविंद

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को कहा कि नयी शिक्षा नीति का मकसद समावेशी और उत्कृष्टता के दोहरे उद्देश्य को हासिल करके...

पार्टी में गोलीबारी : 2 की मौत, 14 घायल

न्यूयॉर्क के रोचेस्टर में शनिवार की सुबह एक पार्टी में हुई गोलीबारी की घटना में 2 लोगों की मौत हो गई जबकि...

हिमाचल में कल से खुल जाएंगे स्कूल

हिमाचल प्रदेश में आगामी सोमवार से स्कूल खुल जाएंगे। मंत्रिमंडल के फैसले के बाद शिक्षा विभाग ने स्कूल खोलने के बारे में...

सितंबर में सितारों की बदली चाल इस हफ्ते राहु-केतु बदलेंगे घर

इस महीने कुछ मुख्य ग्रह अपना स्थान व चाल बदल चुके हैं और कुछ बदलने वाले हैं।  गत 16 सितंबर को सूर्य...

Recent Comments

Open chat