Thursday, September 24, 2020
Home EDUCATION सब्‍जी बेचने को मजबूर है दिल्‍ली का टीचर

सब्‍जी बेचने को मजबूर है दिल्‍ली का टीचर

नई दिल्ली: 

Covid19 Pandemic: देश की राजधानी दिल्ली के एक स्कूल का संविदा शिक्षक कोरोना संकट के बीच काफी आर्थिक परेशानी का सामना कर रहा है. इस शिक्षक को कथित तौर पर पिछले दो महीनों से वेतन का भुगतान नहीं हुआ है. ऐसे में आर्थिक संकट के चलते यह सब्‍जी बेचकर अपनी रोजीरोटी चलाने को मजबूर है. आठ मई से COVID-19 के स्‍कूल बंद होने के कारण सर्वोदय बाल विद्यालय के अंग्रेजी शिक्षक वजीर सिंह को वेतन नहीं मिल रहा है, ऐेसे में वे सब्‍जी बेचकर अपना और परिवार का खर्च चला रहे हैं.
 
वजीर सिंह ने ANI से कहा, “संविदा शिक्षकों को 8 मई तक भुगतान के दिल्ली सरकार के आदेश के बाद मैं बेरोजगार हूं. हालांकि उन्‍होंने हमें नौकरी को लेकर आश्‍वस्‍त किया है लेकिन मैं सब्जियां बेचने के लिए मजबूर हूं.” दिल्ली सरकार के 5 मई के आदेश के अनुसार, सभी ‘अतिथि’ शिक्षकों को 8 मई, 2020 तक के लिए भुगतान किया जाएगा और गर्मियों की छुट्टियों में केवल तभी भुगतान किया जाएगा, जब उन्हें ड्यूटी के लिए बुलाया जाता है.”हालांकि इससे पहले आम आदमी पार्टी और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की ओर से एक ट्वीट में कहा गया था कि दिल्ली सरकार COVID-19 प्रभावित क्षेत्रों में कार्यरत दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों, अतिथि शिक्षकों को वेतन का भुगतान करेगी।

छह लोगों के परिवार वाले वजीर सिंह के पास अंग्रेजी में मास्‍टर्स और बीएड की डिग्री है. वे परिवार के एकमात्र रोटी कमाने वाले हैं. उनके माता-पिता  बीमार हैं जबकि भाई-बहन हैं. ऐसे में परिवार का खर्चा चलाने के लिए उन्‍हें काफी आर्थिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि कोरोना की महामारी ने कई बेरोजगारों को छोड़ दिया है. वजीर ने कहा, “यदि हम आपदा प्रबंधन एक्‍ट (Disaster Management Act) को देखते हैं तो नियोक्ता आपदा के दौरान कर्मचारी को ‘निकाल’ नहीं सकता है. ऐसे समय जब हम इस विशाल महामारी का सामना कर रहे हैं, मैं भी ऐसा ही अनुभव कर रहा हूं.” उन्‍होंने कहा, “हमें काम के लिए बुलाया जाता है और समय-समय पर निकाल दिया जाता है. जब भी कोई नई भर्ती, स्थानांतरण या पदोन्नति होती है, हम अपने कर्तव्यों से मुक्त हो जाते हैं. एक तरह से हर दिन, हम अपनी नौकरी खोने के भय के साथ जीते हैं. यह बहुत अपमानजनक है. वजीर ने कहा, “अनुबंधित शिक्षकों को केवल काम के दिनों के लिए भुगतान किया जाता है. एक व्याख्याता को प्रति दिन 1,445 रुपये का भुगतान किया जाता है, जबकि एक टीजीटी को प्रति दिन 1,403 का भुगतान किया जाता हैण्‍”

Avatar
aakedekhhttps://aakedekh.in
Aakedekh : Live TV लाइव Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सिद्धू ने कृषि विधेयकों को बताया ‘काला कानून’

पंजाब के विधायक एवं पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने संसद में पारित कृषि संबंधी विधेयकों को मंगलवार को 'काला कानून' करार...

विपक्ष करेगा सत्र का बहिष्कार

कृषि संबंधी बिलों से पैदा हुए विवाद से सियासत गरमा गयी है। राज्यसभा के 8 सांसदों का निलंबन रद्द होने तक कांग्रेस...

14 घंटे चला चीन-भारत सैन्य वार्ता का छठा दौर

भारत और चीन के बीच 14 घंटे चली छठे दौर की सैन्य वार्ता के दौरान पूर्वी लद्दाख में अत्यधिक ऊंचाई पर स्थित...

बाइडेन की जीत होगी चीन की जीत : ट्रंप

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि देश में नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी...

Recent Comments

Open chat