Wednesday, September 23, 2020
Home NEWS महाराष्ट्र ने 5 हजार करोड़ के प्रोजेक्ट पर फिलहाल लगाई रोक

महाराष्ट्र ने 5 हजार करोड़ के प्रोजेक्ट पर फिलहाल लगाई रोक

नई दिल्ली। चीन के साथ लगातार बढ़ती तनतनी बीच अब राज्य सरकारों की ओर से बड़े एक्शन लेने शुरू कर दिए हैं। हरियाणा सरकार ( Haryana Govt ) के बाद अब महाराष्ट्र सरकार ( Maharashtra Govt ) की ओर से चीनी कंपनियों ( Chinese Companies ) के साथ हुए करार को रद कर दिया है। तीन प्रोजेक्ट्स के लिए हुए करार में करीब 5 हजार करोड़ रुपए निवेश और हजारों नौकरियों का समावेश था। आपको बता दें कि हाल ही हरियाणा सरकार ने पॉवर प्रोजेक्ट्स से चीनी कंपनियों के टेंडर्स को कैंसिल कर नए टेंडर जारी करने के आदेश दे दिए थे। उससे पहले बीएसएनएल ( bsnl ) और रेलवे ( Indian Railway ) भी चीनी टेंडर्स को कैंसिल कर चुके हैं।

अब Business शुरू करने के लिए Loan मिलना होगा आसान, Govt लेकर आ रही है नया Portal

महाराष्ट्र सरकार ने दिया बड़ा झटका
चीन को महाराष्ट्र सरकार की ओर से बड़ा झटका मिला है। उद्धव सरकार ने चीनी कंपनियों के साथ साइन की हुई तीन बड़ी डील को ठंडे बस्ते में डाल दिया है। ये तीनों ही डील करीब 5 हजार करोड़ रुपए की थी। इससे हजारों नौकरियां भी पैदा होंती। मैग्नेटिक महाराष्ट्र 2.0 इंवेस्टर समिट में ये तीनों डील इन की गई थी। राज्य के उद्योग मंत्री सौरभ देसाई के अनुसार तीनों ही डील गलवान हिंसा से पहले साइन हुई थीं। केंद्र सरकार को भी इस बारे में जानकारी दे दी गई है। हाल ही विदेश मंत्रालय की ओर से देश के सभी राज्यों और केंद्रीय मंत्रालयों को कहा गया था कि फिलहाल चीन के साथ कोई कारोबारी रिश्ता ना रखा जाए।

इन प्रोजेक्ट्स के लिए हुई थी डील
– पहला प्रोजेक्ट ग्रेट वॉल मोटर्स का 3,770 करोड़ रुपए का था जिसेे पुणे के पास ऑटोमोबाइल प्लांट लगना था।
– दूसरी प्रॉजेक्ट पीएमआई इलेक्ट्रो मोबिलिटी और फोटोन का था, जिसकेे तहत 1 हजार करोड़ रुपये में यूनिट लगनी थी।
– तीसरा प्रॉजेक्ट हिंगली इंजिनियरिंग 250 करोड़ रुपए का था।

अब कैसे चलेगा काम, एक समान हुए पेट्रोल और डीजल के दाम

रेलवे और बीएसएनएल भी दे चुके हैं झटका
– रेलवे ने भी चीनी कंपनी का ठेका रद्द करते हुए करीब 417 करोड़ का झटका दिया था।
– यह चीनी कंपनी बीजिंग नेशनल रेलवे रिसर्च एंड डिजायन इंस्टीट्यूट के पास था।
– कानपुर और मुगलसराय के बीच 417 किलोमीटर लंबे खंड पर सिग्नल और दूरसंचार का काम होना था।
– वही भारत सरकार ने सरकारी टेलिकॉम कंपनियों से किसी भी चीनी कंपनी के इक्विपमेंट्स का इस्‍तेमाल न करने को कहा है।
– बीएसएनएल और एमटीएनएल ने सभी चीनी टेंडर्स को कैंसिल कर दिया है।
– इस कदम से चीन को करीब 3 हजार करोड़ का नुकसान होगा।

Avatar
aakedekhhttps://aakedekh.in
Aakedekh : Live TV लाइव Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

घुसपैठ नाकाम, सीमा पर मादक पदार्थ और हथियार बरामद

बीएसएफ ने ‍जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान की तरफ से घुसपैठ की कोशिश नाकाम की है, साथ ही एक-एक किलोग्राम हेरोइन...

कोरोना के बाद शायद 2 करोड़ लड़कियां स्कूल नहीं लौट पाएंगी : मलाला

नोबेल पुरस्कार से सम्मानित मलाला यूसुफजई ने कहा है कि कोरोना संकट खत्म होने के बाद भी दो करोड़ लड़कियां शायद स्कूल...

मोहनलाल बने जोगिंदरा कोऑपरेटिव बैंक के डायरेक्टर

औद्योगिक क्षेत्र बीबीएन के मोहनलाल चंदेल को जोगिंदरा सेंट्रल कोऑपरेटिव बैंक सोलन का निदेशक नियुक्त किया गया। इस नियुक्ति पर मोहनलाल चंदेल...

फेसबुक तटस्थ, बिना किसी भेदभाव के काम कर रहा मंच

फेसबुक इंडिया के प्रमुख अजीत मोहन ने सत्तारूढ़ भाजपा सदस्यों के कथित घृणा फैलाने वाले भाषणों से निपटने के तरीके का बचाव...

Recent Comments

Open chat